हक़ीक़त: दिल्ली में 27 लोगों की मौत और वही 24 Female, 5 Male लोग लापता.

राजधानी दिल्ली के मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित चार मंजिला व्यावसायिक इमारत में शुक्रवार शाम भीषण आग लग गई। आग लगने की इस घटना में कम से कम 27 लोगों की जलकर मौत हो गई। वहीं एक दर्जन से ज्यादा लोग झुलस गए हैं। मृतकों में दमकल विभाग के दो कर्मचारी भी शामिल हैं। अभी भी मुंडका हादसे में 24 महिलाएं और 5 पुरुषों समेत कुल 29 लोग लापता बताए जा रहे हैं।पुलिस ने शनिवार को मुंडका में आग लगने की घटना को लेकर 304/308/120/34 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया है। इसके साथ ही पुलिस ने फैक्ट्री के दोनों मालिकों को गिरफ्तार कर लिया है।

 

जेनरेटर से शुरू हुई आग लगने की शुरुआत

मौके पर मौजूद चश्मदीदों के मुताबिक, चार मंजिला इमारत की पहली मंजिल से आग फैलना शुरू हुई थी। देखते ही देखते कुछ ही सेकेंड्स में आग ने दूसरे और तीसरे फ्लोर को भी अपनी चपेट में ले लिया। आग इतनी भीषण थी कि इस पर काबू पाने के लिए 30 से ज्यादा दमकल वाहन मौके पर पहुंचे थे। जानकारी के अनुसार आग लगने की शुरुआत जेनरेटर से शुरू हुई थी, जिसके बाद यह आग पूरी इमारत में फैल गई। कुछ ही देर में हर तरफ चीख पुकार मच गई। लोग मदद के लिए चिल्लने लगे। कुछ लोगों ने इमारत से कूदकर अपनी जान बचाने की कोशिश की, जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक इस इमारत के पास अग्निशमन विभाग की एनओसी भी नहीं थी।

 

इमारत में पहली मंजिल पर चल रही थी मीटिंग

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आग लगने के दौरान इमारत के प्रथम तल पर कर्मचारियों की मीटिंग चल रही थी। इसमें करीब 50 कर्मचारी मौजूद थे। मीटिंग के दौरान ही आग लगी और अफरातफरी मच गई। इस दौरान कई लोग बिल्डिंग के अंदर फंस गए।

 

पीएम मोदी ने मुआवजे का किया ऐलान

पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से इस हादसे में जाने गंवाने वालों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये की राशि दी जाएगी।

 

पूरा घटनाक्रम-

4.45 बजे : इमारत की पहली मंजिल में आग लगने की सूचना दमकल विभाग व पुलिस को मिली।

5.00 बजे : दमकल विभाग विभाग की 12 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं।

5.15 बजे : बचाव कार्य शुरू किया गया। बिल्डिंग के शीशे तोड़े गए व बचाव कार्य शुरू किया गया।

5.20 बजे : रस्सी की मदद से लोगों को इमारत से बाहर निकालने का काम शुरू किया गया।

5.30 बजे : आग की भयंकरता को देखते हुए मौके पर मौके पर दमकल विभाग की और गाड़ियां भेजी गईं।

7.30 बजे : ग्रामीणों ने व्‍हाट्सऐप से जुटाई मदद और बिल्डिंग से करीब 100 लोगों को बचाया।

8.30 बजे : दमकल विभाग की और गाड़ियों को मौके पर भेजा गया।

8.30 बजे : इमारत के आसपास भारी संख्या में लोग एकत्रित हो गए। इससे राहत कार्य में थोड़ी परेशानी हुई।

10.00 बजे : दमकल विभाग ने कुछ हद तक आग पर काबू पा लिया था। इसके बाद शनिवार को सुबह तक आग पर काबू पा लिया गया।

Leave a Reply