Wednesday, October 20

एम्स ब्लैक फंगस के इलाज के लिए दिशानिर्देश विकसित करने वाला है , कोविद के बाद यह बानी बड़ी चुनौती

शुगर और स्टेरॉयड से रही है बीमारी

एम्स ऋषिकेश के विशेषज्ञों का कहना है कि शुगर से पीड़ित और स्टेरॉयड ज्यादा लेने वाले मरीजों में ब्लैक फंगस का ज्यादा खतरा है। इससे बचने के लिये शुगर नियंत्रित रखनी चाहिए। स्टेरॉयड के अलावा कोरोना की कुछ दवाएं भी मरीज की प्रतिरक्षा प्रणाली पर असर डालती हैं, हालांकि सूत्रों के मुताबिक एम्स ब्लैक फंगस के इलाज के लिए दिशानिर्देश विकसित कर रहा है अभी तक इसपर कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली है । एम्स ऋषिकेश के प्रोफेसर का कहना है की लक्षण मिलते ही इलाज शुरू होने पर बीमारी से बचाव संभव है।

एम्स निदेशक का कहना है कि

> ब्लैक फंगस से बचने के लिये धूल वाली जगह पर मास्क पहनकर जाये
> मिट्टी, काई के पास जाते समय जूते, ग्लब्स, फुल टीशर्ट और ट्राउजर पहने
> डायबिटीज पर कंट्रोल, इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग या स्टेरॉयड का कम से कम इस्तेमाल कर
> एंटीबायोटिक्स या एंटीफंगल दवा का इस्तेमाल जरूरत पड़ने पर ही करना चाहिए
> स्टेरॉयड का उपयोग दस दिनों से अधिक नहीं किया जाना चाहिए, स्टेरॉयड का उपयोग होम आइसोलेशन के बाद नहीं करें।

Leave a Reply