Wednesday, October 20

कोविद से गयी एक मासूम की जान , पिता ने कहा , अब न ही मेरी बेटी बची है और न पैसे , कोविद ने सब छीन लिया

मैंने अपना पैसा, बेटी और सब कुछ खो दिया

दिल्ली में रहने वाला एक परिवार की एक ऐसी कहानी सामने आयी जो देती है , इस परिवार ने महामारी के कारन अपनी ५ महीने की बेटी को खो दिया । उनके पिता का बस इतना ही कहना था “मेरा बाबू कहा है (मेरे बाबू कहाँ हैं)?” बेटा फिर से अपने पिता से पूछता है। प्रहलाद के पास कोई जवाब नहीं है क्योंकि वह टूट जाता है, “पैसा भी गया, बच्ची भी गई, हमारा सब कुछ चला गया (मैंने अपना पैसा, बेटी और सब कुछ खो दिया),” उसने फोन पर कहा।

6 मई से चल रहा था इलाज

12 मई को # COVID19 के कारण मरने वाले 5 महीने की बच्ची परी का परिवार, उनके निधन पर शोक व्यक्त कर रहा है। जीटीबी अस्पताल में उसकी मृत्यु हो गई, जहां उसका इलाज चल रहा था और 6 मई से वेंटिलेटर पर थी । सीमापुरी श्मशान घाट में उनका अंतिम संस्कार किया गया।

पिता ने बताया

वह बुखार से तप रही थी। उसके पिता ने बताया हम पहले उसे दिलशाद गार्डन में बच्चों के अस्पताल ले गए वह काम नहीं बना , फिर चाचा नेहरू बाल चिकत्सालय से संपर्क किया, जहां उन्हें संक्रमित होने का पता चला। फिर उसे जीटीबी अस्पताल में रेफर कर दिया गया जहां वह 6 मई से वेंटिलेटर पर थी, और फिर 12 मई को परी की मृत्यु हो गई

Leave a Reply