Sunday, September 19

क्या उत्तर प्रदेश का ऐसा मंज़र कभी देखा था ? लाशे रेत में दफ़्न है , पर मरने के बाद अंतिम संस्कार तक नसीब नहीं

प्रशाशन की अनदेखी और लोगों की गरीबी का नज़ारा

यूपी के उन्नाव, कन्नौज, कानपुर, रायबरेली के बाद अब संगम नगरी प्रयागराज में भी गंगा नदी के किनारे शवों को रेत में दफन किए जाने का हैरान करने वाला मामला सामने आया है प्रयाग राज के घाट देखे तो एक किलोमीटर तक आपको सिर्फ लाशे ही दिखाई देंगी कुछ ऐसी लाशें जो कही दफन की गयी है तो कुछ ऐसी जिनका पूरी तरह से अंतिम संस्कार भी नहीं हो पाया है , ऐसे मैं 1 -2 फ़ीट तक दबी हुई है। चमकते हुये कपड़ो के अंदर लाशो से ढके हुए कपडे नज़र आते है।

गरीबी इतनी की अंतिम संस्कार करवा  पाए 

जो लोग शवों का दाह संस्कार करने में सक्षम नहीं है। उन शवों का प्रशासन की ओर से अंतिम संस्कार कराए जाने के आदेश दिए गए थे। इसके बाद प्रयागराज में कोविड से हुई मौत का अंतिम संस्कार निशुल्क कराना शुरू कर दिया है। इसके लिए प्रत्येक परिवार को चार हजार रुपये नगर निगम प्रयागराज दे रहा है। परिजनों को कोविड की वजह से मृत्यु होने की रिपोर्ट नगर निगम में जमा करना होता है।

Leave a Reply