Tuesday, October 19

बिहार के 16 ज़िलों में अलर्ट जारी, DM ने बताया भारी बारिश और आँधी से करिए खुद की सुरक्षा,

बंगाल के पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर संभावित ओमान द्वारा नामित चक्रवात ‘यास’ तेजी से विकसित हो गया है. चक्रवाती तूफान के 25 मई तक एक गंभीर चक्रवाती तूफान में और फिर एक बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है. बढ़ते हुए तीव्रता के साथ उत्तर पश्चिम में बढ़ता रहेगा और 26 मई को इसके उड़ीसा और पश्चिम बंगाल पहुंचने की संभावना है. इसके बाद झारखंड होते हुए बिहार में प्रवेश करने की संभावना है, राज्य में फिलहाल मौसम शुष्क बना रहेगा.

 

इन जिलों में वज्रपात के साथ बारिश की संभावना

भागलपुर, बांका, पूर्णिया, कटिहार, खगड़िया, सहरसा, मधेपुरा, लखीसराय, बेगूसराय, समस्तीपुर, दरभंगा और मधुबनी में अगले कुछ घंटों में मेघगर्जन और वज्रपात के साथ बारिश की संभावना है. ऐसे में लोगों को एहतियात बरतने की जरूरत है.

 

 

यलो और ऑरेंज अलर्ट जारी

वहीं, मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में सक्रिय तूफान का असर बिहार के सभी जिलों में होगा. बिहार के करीब 16 जिलों में तेज हवा के साथ बारिश की संभावना है. वहीं, बिहार के 22 जिलों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ आकाशीय बिजली गिरने की भी संभावना है. जिसके चलते बिहार में यलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है.

 

राज्य के अधिकांश हिस्सों में बादल छाए रहेंगे, जिस कारण तापमान में 5-6 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट होने की संभावना है. चक्रवाती तूफान यास का असर बिहार में 26 मई से 30 मई तक अधिक दिखने की संभावना है. इस दौरान बिहार में आकाशीय बिजली, तेज हवा करीब 60 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना है. साथ ही मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है.

 

बेतिया डीएम कुंदन कुमार

DM ने किया अलर्ट

इसे लेकर बेतिया डीएम कुंदन कुमार द्वारा प्रभारी पदाधिकारी, जिला आपदा कोषांग, सभी अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी को अलर्ट मोड में रहकर ऐहतियातन सभी आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है. साथ ही किसानों सहित तटवर्ती इलाकों में निवास करने वाले लोगों को सुरक्षित स्थलों पर निवास करने, घरों में रहने, खलिहान में रखे फसल को सुरक्षित स्थल पर रखने आदि के संबंध में माइकिंग के माध्यम से जागरूक करने का निर्देश दिया गया है.

Leave a Reply