Thursday, July 29

200 से अधिक कलाकरों और विद्वानों ने उमर ख़ालिद के समर्थन में बयान किया जारी

200 से अधिक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विद्वानों, शिक्षाविदों और कलाकारों ने गुरुवार को जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद के समर्थन में एक बयान जारी किया जो दिल्ली दंगों में कथित भूमिका के लिए यूएपीए मामले में गिरफ्तार किए जा चुके है। उन्होंने जांच को “विच-हंट” कहा।

उन्होंने मांग की है कि सरकार खालिद के साथ साथ उन सब को भी रिहा करे जिनको महज़ सीएए-एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए अन्यायपूर्ण तरीके से फंसाया गया है और सुनिश्चित करें कि दिल्ली पुलिस निष्पक्षता के साथ दिल्ली दंगों की जांच करे। पुलिस ने बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

208 हस्ताक्षरकर्ताओं में से कुछ प्रमुख व्यक्ति भाषाविद् नोम चोम्स्की, लेखक सलमान रुश्दी, अमिताव घोष, अरुंधति रॉय, रामचंद्र गुहा, राजमोहन गांधी, फिल्म निर्माता मीरा नायर, आनंद पठान, इतिहासकार रोमिला थापर, इरफान हबीब और कार्यकर्ता मेधा पाटकर और अरुणा रॉय हैं।

“हम युवा विद्वान और कार्यकर्ता उमर खालिद के साथ एकजुट होकर खड़े हैं … उन पर देशद्रोह और हत्या की साजिश जैसे आरोप गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत लगाए गए हैं। आलोचनाओं के अपराधीकरण की यह प्रक्रिया कुछ वर्षों से चल रही है और यहां तक ​​कि एक कोविड -19 महामारी का फायदा उठाते हुए सरकार झूठे आरोपों के तहत निर्दोषों को मुकदमे में लाने से बहुत पहले ही गुरफ्तार करके सजा दे रही है, ”उन्होंने लिखा।

हस्ताक्षरकर्ताओं ने कहा कि CAA विरोधी आंदोलन “स्वतंत्र भारत में सबसे बड़ा, सबसे शांतिपूर्ण लोकतांत्रिक अधिकार आंदोलन” था जिसने “महात्मा गांधी के दिए हुए आदर्शों का पालन किया और डॉ. बीआर अंबेडकर के नेतृत्व में तैयार किए गए भारतीय संविधान की भावना को मूर्त रूप दिया।”

Leave a Reply