Friday, January 22

जिन बच्चों के लिए कुर्बान कर दी अपनी दुनिया, उन्होंने ही पिता को कर दिया बेघर

आसमान के नीचे दिन गुजारने को मजबूर

दिल्ली में तिलक नगर के शाम नगर निवासी 3 बेटे और 3 बेटियों के होने के बावजूद भी 85 वर्षीय बाबू सिंह को इस ठंड में खुले आसमान के नीचे दिन गुजारना पड़ रहा है। उनकी पत्नी की करीब 6 वर्ष पहले मौत हो चुकी है।

आस पड़ोस के लोग तरस उन्हें खाना दे देते हैं

बता दें कि 22 सालों से इंग्लैंड में रहे सुरेन्द्र सिंह नामक उनके बेटे ने आते ही उनके साथ मारपीट और अभद्र व्यवहार करना शुरू कर दिया। बंगला साहिब गुरुद्वारे के पास उनकी एकमात्र कमाई का जरिया एक दुकान थी, उसे भी उनके बेटी के बेटे गुरमीत सिंह, सुरेंद्र और बेटी शान कौर ने हथिया कर उसपर कब्ज़ा कर लिया। अब आस पड़ोस के लोग तरस उन्हें खाना दे देते हैं।

शिकायत के बाद भी नहीं हुई कार्यवाई

वो बताते हैं की बच्चों को शिक्षा देने के लिए उन्होंने अपना पैतृक घर और जमीन बेच दिया था। उन्ही पैसों से उन्होंने सुरेन्द्र सिंह को नौकरी के लिए इंग्लैंड भेजा और एक बेटे को गाड़ी दिलाई। लेकिन जिन बच्चों के लिए उन्होंने अपना सब कुछ लुटा दिया उन्होंने ही उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा। हालांकि उन्होंने तिलक नगर थाने में इस बाबत शिकायत की है लेकिन कोई कार्यवाई नहीं हुई है।

Leave a Reply