Saturday, May 8

Education

दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक कालेज में कार्यरत्त 12 एडहॉक टीचर्स की सर्विस टर्मिनेट , कई शिक्षक नाराज
Being in Delhi, Education

दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक कालेज में कार्यरत्त 12 एडहॉक टीचर्स की सर्विस टर्मिनेट , कई शिक्षक नाराज

DU में 12 एडहॉक टीचर्स की सर्विस टर्मिनेट दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक कालेज में कार्यरत्त 12 एडहॉक टीचर्स की सर्विस टर्मिनेट किए जाने का मामला सामने आया है। शिक्षक संगठनों के मुताबिक विवेकानंद कॉलेज में यह कार्रवाई की गई है। इस कार्रवाई की दिल्ली यूनिवर्सिटी एससी, एसटी ,ओबीसी टीचर्स फोरम ने कड़े शब्दों में निंदा की है। https://twitter.com/IANSKhabar/status/1389861550060490753?s=20 एक शिक्षक ने कहा " यह बेहद शर्म की बात है कि डीयू और डूटा के अधिकारी विवेकानंद कॉलेजों में एडहॉक शिक्षकों की सेवा समाप्त करने के मुद्दे पर चुप्पी बनाए हुए हैं। एडहॉक शिक्षकों की सेवाओं की समाप्ति 5 दिसंबर 2019 एमएचआरडी पत्र का घोर उल्लंघन है और इस महामारी के बीच इस तरह की मनमानी कार्रवाई पूरी तरह से अमानवीय और क्रूर है। हमने डीयू के शिक्षण अधिकारी ने इतने वर्षों में बहुत उच्च स्तर की अखंडता और नैतिकता...
ऑपरेशन करते समय डॉक्टर क्यों पहनते है हरे या नीले रंग का कपड़ा, जानिए
Education

ऑपरेशन करते समय डॉक्टर क्यों पहनते है हरे या नीले रंग का कपड़ा, जानिए

ऑपरेशन के समय आखिर क्यों डॉक्टर हरे या नीले रंग का ही कपड़ा पहनते हैं आपने डॉक्टरों को अस्पतालों में हमेशा ऑपरेशन के समय हरे या नीले रंग का कपड़ा पहनने देखा होगा। डॉक्टर आखिर क्यों ऑपरेशन के समय हरे या नीले रंग का ही कपड़ा पहनते हैं। इन रंगों के अलावा डॉक्टर क्यों लाल, पीला या किसी और रंग का कपड़ा नहीं पहनते हैं। पहले अस्पताल में डॉक्टरों से लेकर सभी कर्मचारी सफेद कपड़े ही पहनते थे, लेकिन एक प्रभावशाली डॉक्टर ने साल 1914 में इस पारंपरिक ड्रेस को हरे रंग में बदल दिया और तब से ही यह चलन शुरू हो गया था। इसके अलवा कुछ डॉक्टर नीले रंग का भी कपड़ा पहनते हैं। अस्पतालों में पर्दों का रंग भी हरा या नीले रंग का ही होता है। कर्मचारियों के कपड़े और मास्क भी अस्पतालों में हरे या नीले रंग के ही होते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, डॉक्टरों ने सर्जरी के समय हरे या नीले रंग का कपड़े पहनना इसलिए...
बंद पड़े स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र के लिए सर्वोच्च अदालत ने दिया आदेश, 15 प्रतिशत कम फीस वसूल करे स्कूल
Being in Delhi, Education

बंद पड़े स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र के लिए सर्वोच्च अदालत ने दिया आदेश, 15 प्रतिशत कम फीस वसूल करे स्कूल

राजस्थान में अभिभावकों का मामला पहुंचा था सुप्रीमकोर्ट कोरोना महामारी के कारण बन पड़े स्कूल में पढ़ाई और फीस को लेकर अभिभावक परेशान थे। जिसके लेकर पिछले साल कई राज्यों में फीस का मामला कोर्ट पहुंचा अलग अलग अलग राज्य सरकारों की ओर से फीस को लेकर आदेश दिए गए। जिसका मामला देश के सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। यह मामला राजस्थान में अभिभावकों द्वारा लाॅकडाउन के चलते शुल्क वसूल किए जाने को लेकर अदालत में याचिका दायर की गई थी। 15% कम शुल्क ले स्कूल कोरोना की दूसरी लहर के कारण बंद पड़े स्कूलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट की ओर से महत्वपूर्ण बातें कही। इसमें सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान के 36000 गैर सहायता प्राप्त निजी स्कूलों को सोमवार को निर्देश दिए कि शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए छात्रों से सालाना 15 प्रतिशत कम फीस वसूल की जाए। फीस जमा ना होने पर क्लास बंद ना किया जाए फीस वसूल न होने के कारण...
दिल्ली के DTU में B.Tech और M.Tech के छात्रों को प्रोजेक्ट वर्क के मूल्यांकन से मिलेगी डिग्री, पारंपरिक वार्षिक परीक्षा के आधार पर pass या fail होने की योजना हुई खत्म
Being in Delhi, Education

दिल्ली के DTU में B.Tech और M.Tech के छात्रों को प्रोजेक्ट वर्क के मूल्यांकन से मिलेगी डिग्री, पारंपरिक वार्षिक परीक्षा के आधार पर pass या fail होने की योजना हुई खत्म

DTU में पारंपरिक वार्षिक परीक्षा के आधार पर pass या fail होने की योजना हुई खत्म देशभर में कोविड-19 के चलते सभी शिक्षण संस्थान बंद हैं जिस कारण स्कूल और विश्वविद्यालयों की वार्षिक परीक्षा और शैक्षणिक सत्र तीन से चार महीने की देरी से चल रहे हैं। ऐसे में DTU ने पारंपरिक वार्षिक परीक्षा के आधार पर pass या fail होने की योजना खत्म की हैं। अब DTU के छात्रों को साल भर के प्रोजेक्ट वर्क के मूल्यांकन से डिग्री मिलेगी। इसी के साथ ही देश में समय से शैक्षणिक सत्र पूरा करके डिग्री देने वाला DTU पहला विश्वविद्यालय बन गया है। प्रोजेक्ट वर्क से मिलेगी 80 फीसदी मूल्यांकन अब DTU के छात्रों को साल भर चलने वाले वाले प्रोजेक्ट वर्क, रिसर्च, इनोवेशन आदि के माध्यम से 80 फीसदी का मूल्यांकन मिलेगा। छात्रों के फाइनल डिग्री में अंक या ग्रेड इसी के आधार पर दिए जायेगा। इसके अलावा केवल 20 फीसदी के प्रश्न ...
दिल्ली में लगा एक सप्ताह का lockdown, JNU ने किया कैंपस के अंदर सख्त guidelines जारी 
Being in Delhi, Education

दिल्ली में लगा एक सप्ताह का lockdown, JNU ने किया कैंपस के अंदर सख्त guidelines जारी 

JNU ने कैंपस के अंदर लगाया कई प्रतिबंध दिल्ली में COVID-19 के मामलों को रोकने के लिए लगे एक सप्ताह के lockdown के दौरान JNU ने कैंपस के अंदर कड़े guidelines जारी किए हैं। इस दौरान JNU ने परिसर में कई प्रतिबंध लगाए हैं। JNU ने सोमवार को एक आदेश में कहा, सभी ढाबे और भोजनालयों बंद रहेंगे, सिर्फ, होम डिलीवरी सेवा की अनुमति दी जाएगी। JNU कैंपस में फेरीवालों, ड्राइवरों, नौकरानियों,  बागवानों और निवासियों द्वारा किराए पर ली गई कार क्लीनर" को भी प्रतिबंधित कर दिया गया हैं। छात्रावास परिसर के अंदर किसी अन्य घर या छात्रावास में जाना प्रतिबंधित कर दिया गया हैं। JNU में कर्फ्यू के दौरान परिसर के भीतर सड़क पर चलना, दौड़ना, और jogging करना भी प्रतिबंधित किया गया हैं। JNU के स्टेडियम और केंद्रीय पुस्तकालय को भी बंद रखने की घोषणा की गई हैं। कर्फ्यू के दौरान आपातकालीन और आवश्यक सेवाओं, चिकित्सा क...
दिल्ली में 30 जून तक स्कूल बंद, पुरानी सारी DEADLINE ख़त्म की गयीं, सारे स्कूल को नोटिस भेजा गया
Being in Delhi, Education

दिल्ली में 30 जून तक स्कूल बंद, पुरानी सारी DEADLINE ख़त्म की गयीं, सारे स्कूल को नोटिस भेजा गया

कोरोना महामारी की दूसरी लहर को देखते हुए केजरीवाल सरकार ने शुक्रवार को सभी सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में गर्मियों की छुट्टी का ऐलान कर दिया है। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय ने 11 मई से 30 जून तक गर्मियों की छुट्टी का ऐलान किया है। दिल्ली सरकार ने कहीं ना कहीं ये फैसला कोरोना के फैलते संक्रमण को देखते हुए लिया है। इस समय अवधि के दौरान स्कूलों में छात्रों को प्रवेश नहीं मिलेगा, लेकिन स्कूलों के प्रधानाचार्यों द्वारा स्कूल से संबंधित काम जैसे शैक्षणिक, प्रवेश आदि के लिए कर्मचारियों को आदेश के अनुसार बुलाया जा सकता है।       आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने पिछले हफ्ते ये ऐलान किया था कि कक्षा 9वीं से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थियों को कक्षाओं में या परीक्षाओं के लिए स्कूल में नहीं बुलाया जाना चाहिए। शिक्षा विभाग ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के किसी भी छा...
शिक्षा मंत्रालय ने CBSE board के 10th के परीक्षा को cancel और 12th के परीक्षा को postponed कर दिया हैं
Being in Delhi, COVID19, Education, National

शिक्षा मंत्रालय ने CBSE board के 10th के परीक्षा को cancel और 12th के परीक्षा को postponed कर दिया हैं

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुए बैठक के बाद शिक्षा मंत्रालय ने कक्षा 10वीं बोर्ड परीक्षा को रद्द करने का और 12वीं के बोर्ड परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय लिया हैं। CBSE board द्वारा कक्षा 10वीं के नतीजे objective criteria के आधार पर तैयार किए जाएंगे। CBSE बोर्ड के 12वीं कक्षा के बोर्ड परीक्षा के नये शेड्यूल को 1 जून से देश में कोरोना की स्थिति को देखकर तैयार किया जाएगा और तय समय से 15 दिन पहले छात्रों को 12वीं के परीक्षा के बारे में सूचित कर दिया जाएगा। CBSE कक्षा 10वीं के छात्रों का, result एक “objective criterion” के आधार पर CBSE board द्वारा तैयार किया जाएगा। कोई भी उम्मीदवार जो इस आधार पर मिले अपने अंकों से संतुष्ट नहीं है, उसे अनुकूल परिस्थितियों में आयोजित परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जाएगा। CBSE board ने पिछले साल भी कक्षा 10 के छात्रों के लिए एक नई योजना त...
दिल्ली: मयूर विहार में, फ्लाईओवर के नीचे चल रहा स्कूल, ये हैं दिलवालों की दिल्ली
Being in Delhi, Education

दिल्ली: मयूर विहार में, फ्लाईओवर के नीचे चल रहा स्कूल, ये हैं दिलवालों की दिल्ली

दिल्ली में जहाँ महामारी के कारन दिल्ली के स्कूल और कालेज को बंद कर दिया गया है जिसकी वजह से बच्चे पढाई में ध्यान नहीं दे प् रहे है एजुकेशन सिस्टम का बुरा हाल हुआ पड़ा है , इससे सबसे ज्यादा प्रभावित ऐसे छात्र हुए है जिनके पास पढ़ने का साधन वैसे ही कम् था अब स्कूल के बंद होने के कारन इनके पास शिक्षा प्राप्त करने का कोई साधन नहीं बचा है ,इस बीच दिल्ली के मयूर विहार फेज-1 में एक फ्लाईओवर के नीचे एक बेहतरीन काम चल रहा है जहा एक स्कूल चलाया जा रहा है और बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दी जा रही है।   वहां पढ़ा रहे शिक्षक ने बताया, ''हमारे पास 250 बच्चे हैं। लॉकडाउन में बच्चों की पढ़ाई नहीं हो पा रही थी। हमने सोचा कि क्यों न इनको पढ़ाया जाए। बच्चे पढ़ने आए और अभी तक पढ़ रहे हैं।'' यहाँ बच्चो को पढ़ने के लिए बकायदा बेंच लगाए गए है , जहा बच्चे डेली आकर पढ़ते है , कोविद का दर इन्हे न सताए इस ...
Delhi university के सारे छात्रों के लिए महतवपूर्ण संदेश जारी, सारे कॉलेज के प्रवेश परीक्षा पर रोक
Being in Delhi, COVID19, Education

Delhi university के सारे छात्रों के लिए महतवपूर्ण संदेश जारी, सारे कॉलेज के प्रवेश परीक्षा पर रोक

  दिल्ली विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा की DU के कॉलेजों में इस साल फिर से कोविद -19 के दूसरे लहर के कारण देरी से admission होने की संभावना है। DU के अधिकारियों के अनुसार दिल्ली विश्वविद्यालय देश के अधिकांश शिक्षा बोर्डों के 12 की परीक्षाओं के पूरा होने के बाद ही प्रवेश प्रक्रिया शुरू करेगा और 12 की परीक्षाएं ना होने तक इंतजार करेगा। पिछले साल, DU के कॉलेजों में पंजीकरण प्रक्रिया जून में शुरू हुई थी, और लॉकडाउन के कारण पहले cutoff की घोषणा अक्टूबर में की गई थी। पिछले साल DU में registration प्रक्रिया जो आमतौर पर जुलाई में शुरू होता है, वो नवंबर में शुरू हुआ।   अधिकारियों ने कहा कि इस साल फिर से DU के प्रवेश प्रक्रिया में देरी होने की संभावना है क्योंकि देश में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय देश का सबसे बड़ा केंद्रीय विश्वविद्यालय ...
दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया बोले 20 अप्रैल तक पोस्टपोन होंगे CBSE के 10 और 12 के practical exam
Being in Delhi, COVID19, Education

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया बोले 20 अप्रैल तक पोस्टपोन होंगे CBSE के 10 और 12 के practical exam

  दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देख, शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने स्कूलों से कम से कम 20 अप्रैल तक चल रही CBSE के 10 और 12 कक्षा की प्रैक्टिकल एग्जाम को पोस्टपोन करने के लिए कहा है। 1 मार्च से CBSE कक्षा 10 और 12 की प्रैक्टिकल परीक्षा शुरू हुई थी। कोरोनो के बढ़ते मामलों के कारण, CBSE ने स्कूलों को थ्योरी परीक्षा की अंतिम तिथि तक प्रैक्टिकल पूरा करने की अनुमति दी है जो 11 जून, 2021 है। इसके अलावा, यदि कोई विद्यार्थी कोरोना पॉजिटिव होने के कारण या परिवार के किसी सदस्य के टेस्ट पॉजिटिव होने के कारण प्रैक्टिकल परीक्षा में अनुपस्थित है ऐसे विद्यार्थियों के लिए CBSE ने स्कूलों से 11 जून तक प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित करने को कहा है। एक लाख से अधिक छात्रों ने पहले ही CBSE बोर्ड परीक्षा 2021 को रद्द करने के लिए एक याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं। हालांकि, सीबीएसई के अधिकारियों...