Saturday, May 8

Opinion

दिल्ली संग देश में कई जगह सप्लाई हुआ नक़ली Remdesivir, ये हैं असली नक़ली की पहचान, मत गवाए, पैसा और जान
Opinion, Reviews

दिल्ली संग देश में कई जगह सप्लाई हुआ नक़ली Remdesivir, ये हैं असली नक़ली की पहचान, मत गवाए, पैसा और जान

दिल्ली एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में नकली रेमदेसीविर इंजेक्शन सर को लेट हो रहा है. देश में बिगड़े हालात और खराब वक्त का फायदा कई लोग ले रहे हैं. हाल ही में दिल्ली पुलिस के द्वारा की गई छापेमारी में देहरादून से एक कंपनी में  बन रहे लगभग 5000  नकली इंजेक्शन को जप्त किया.   जानकारी में यदि पता लगा कि लगभग 2009 इंजेक्शन बेचे जा चुके हैं और इसे प्रति इंजेक्शन ₹30000 तक में बेचा गया है. अब आप समझ सकते हैं कि एक व्यक्ति जिसकी जीवन रेखा बस इस बात के इंतजार में हो कि इंजेक्शन लग जाए और प्राण बच जाएं वैसे लोग पैसे के साथ साथ जीवन भी इन नकली लोगों के चक्कर में गंवा बैठे हैं.   दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने तुरंत लोगों के साथ असली और नकली का फर्क समझाते हुए संदेश जारी किया है जिसमें मोनिका भारद्वाज जो दिल्ली की डीसीपी क्राइम हैं ने एक फोटो के माध्यम से इसे पूरे तरीके से समझाया ह...
पता ही नही चला कब छोटी कपड़े वाली लड़कियाँ कैरेक्टरलेस हो गयीं, और हम माँ बहन करने लगे
Opinion

पता ही नही चला कब छोटी कपड़े वाली लड़कियाँ कैरेक्टरलेस हो गयीं, और हम माँ बहन करने लगे

बहुत छोटी उम्र से ही कब और कैसे यह बैठ गया कि छोटे कपड़े पहनने वाली लड़कियां कैरेक्टरलेस होती हैं, मुझे पता नहीं चला. वह निहायत क्रिकेटी दौर था.. बैट बॉल उठा सुबह ही निकल पड़ते. खेलते-खेलते कब एक दूसरे की मां-बहन को गालियां देने लगते, यह भी हम लोगों को पता नहीं चलता. खेल के खिलाड़ी होने से पहले उसे देखने का दौर होता है. खेलने भर जितना टैलेंट जुटा लेने से पहले मैं गांव के बड़े लड़कों को खेलते देखने जाता. ग्राउंड के बाहर बैटिंग करने वाली टीम के आराम फरमा रहे खिलाड़ी जब कानाफूसी करते तो मैं भी उन्हें कान दे बैठता. वे सब सीनियर थे और अपनी हमउम्र लड़कियों की बातें किया करते. उनकी ज्यादा समझ नहीं आतीं लेकिन हिंदी सिनेमा देखकर बड़े होने वाली जमात का बच्चा इतनी सी समझ बना पाया था कि लड़कियां प्यार करने के लिए होती हैं. चौथी क्लास में थे. क्लास में दिल्ली के किसी सेन्टर स्कूल से पढ़कर आई एक लड़की क...
सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण पर उठाया सवाल ,पूछा- कितनी पीढ़ियों तक जारी रहेगा रिजर्वेशन
National, Opinion

सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण पर उठाया सवाल ,पूछा- कितनी पीढ़ियों तक जारी रहेगा रिजर्वेशन

नौकरियों और शिक्षा में कितनी पीढ़ियों के लिए आरक्षण जारी रहेगा, इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मराठा कोटा मामले की सुनवाई के दौरान जानने की कोशिश की और कुल मिलाकर 50 प्रतिशत की सीमा को हटाने के मामले में "असमानता पर चिंता जताई। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने महाराष्ट्र के वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी से स्पष्ट रूप से कहा था कि कोटा को खत्म करने के मंडल के फैसले को बदली परिस्थितियों में फिर से देखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अदालतों को इसे बदलते हुए हालात के मद्देनजर आरक्षण कोटा तय करने के लिए राज्यों को छोड़ देना चाहिए और 1931 की जनगणना पर मंडल के फैसले को आधार बनाया गया। मराठाओं को कोटा देने के महाराष्ट्र कानून के पक्ष में तर्क देते हुए, रोहतगी ने मंडल फैसले के विभिन्न पहलुओं का उल्लेख किया, जिसे इंद्रा साहनी केस भी कहा जाता है, और ...
दिशा रवि के toolkit में कुछ भी नही, गिरफ़्तारी महज़ लोकतंत्र पर हमला था: जस्टिस दीपक गुप्ता
Opinion, Politics

दिशा रवि के toolkit में कुछ भी नही, गिरफ़्तारी महज़ लोकतंत्र पर हमला था: जस्टिस दीपक गुप्ता

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस दीपक गुप्ता ने 21 वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता दिश रवि की गिरफ्तारी के कारण 'टूलकिट' के बारे में टिप्पणी करते हुए कहा कि वह दस्तावेज के बारे में कुछ भी "देशद्रोही" नहीं देख सकते।   न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता ने एनडीटीवी पर एक पैनल चर्चा के दौरान पत्रकार श्रीनिवासन जैन द्वारा रवि की गिरफ्तारी से संबंधित कानूनी कार्यवाही में भाग लेने पर कहा कि इस देश के प्रत्येक नागरिक को सरकार का विरोध करने का अधिकार है।   14 फरवरी को, रवि को दिल्ली के एक मजिस्ट्रेट ने 5 दिन की हिरासत में भेज दिया था। रवि को बेंगलुरू से भारत के खिलाफ असहमति पैदा करने, सांप्रदायिक विद्वेष फैलाने, आपराधिक षड्यंत्र आदि के आरोप में देशद्रोह से संबंधित अपराधों के लिए सोशल मीडिया पर किसानों के विरोध से संबंधित "टूलकिट" पर दर्ज एक मामले में गिरफ्तार किया गया था। वरिष्ठ वकील...
2021 में क्या महँगा क्या सस्ता ? शराब, गाड़ी, और पेट्रोल (4 रुपए तक) से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स सब की लिस्ट
Developments, National, Opinion, Reviews

2021 में क्या महँगा क्या सस्ता ? शराब, गाड़ी, और पेट्रोल (4 रुपए तक) से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स सब की लिस्ट

सरकार ने बजट में शराब पर 100 प्रतिशत का एग्री इन्फ्रा सेस लगाया है. यह सेस 2 फरवरी 2021 से ही अमल में आ जाएगा. हालांकि कई अन्य वस्तुओं पर सीमा शुल्क दर में भी बदलाव किया गया है. देखें पूरी लिस्ट आम बजट 2021-22 में सरकार ने स्वास्थ्य पर अपने खर्च को बढ़ाया है. लेकिन इस खर्च की भरपाई के लिए बहुत से उत्पादों पर सीमाशुल्क में घट-बढ़ की गई है. साथ ही बहुत सी वस्तुओं पर एग्री इन्फ्रा सेस भी लगाया है जो 2 फरवरी 2021 से ही लागू हो रहा है. जानते हैं और क्या-क्या महंगा और सस्ता हुआ बजट में शराब पीना होगा महंगा सरकार ने घोषणा की है कि नया एग्री इन्फ्रा डेवलपमेंट सेस कल से ही लागू हो जाएगा. इस हिसाब से कल से शराब पीना भी महंगा होगा, क्योंकि बजट में एल्कोहॉलिक बेवरेज पर 100 प्रतिशत एग्री इन्फ्रा सेस लगाया है. पेट्रोल-डीजल भी महंगे बजट में पेट्रोल पर 2.5 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 4 रुपये प्रति ...
दिल्ली में बर्डफ़्लू से ज़्यादा उसका अफ़वाह फैला हैं, मात्र 3-सेकंड में ख़त्म हो जाता हैं फ़्लू वाइरस, अभी 40% सस्ता हैं चिकन
Being in Delhi, Opinion, Reviews

दिल्ली में बर्डफ़्लू से ज़्यादा उसका अफ़वाह फैला हैं, मात्र 3-सेकंड में ख़त्म हो जाता हैं फ़्लू वाइरस, अभी 40% सस्ता हैं चिकन

दिल्ली में जितना बर्ड फ्लू नहीं फैला है उससे ज्यादा बढ़ चुके अफवाह बढ़ गई हैं,  इसके वजह से आम लोगों को इतनी परेशानी हो रही है और इसके साथ ही साथ पोल्ट्री फॉर्म के प्रोडक्ट बेचने वाले दुकानदारों और मार्केटर को लंबा नुकसान उठाना पड़ रहा है.  अभी दिल्ली में पोल्ट्री प्रोडक्ट जैसे चिकन और अंडे लगभग 40 फ़ीसदी सस्ते हो गए हैं, लेकिन अफवाहों के वजह से इनकी बिक्री काफी गिर गई है तो वही मटन और मछलियों पर दाम भी बढ़ गए हैं और उसकी बिक्री अभी बढ़ गई हैं. अगर आप दिल्ली में हैं तो आप काफी सावधानी रखते हुए आप पोल्ट्री प्रोडक्ट का उपयोग कर सकते हैं और यह पूर्ण रूप से सुरक्षित भी रहेगा लेकिन उसके लिए जो दिए गए गाइडलाइन हो उसका आपको अनुपालन करना होगा. 3 सेकेंड में ही दम तोड़ देता है बर्ड फ्लू के वायरस केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत काम करने वाले FSSAI ने पिछले दिनों ही स्पष्ट किया है कि बर्ड...
याद रख ले ये 7 बात, अगली बार गाड़ी सर्विस कराते समय नही देना होगा हज़ार से ऊपर का बिल
National, Opinion, Reviews

याद रख ले ये 7 बात, अगली बार गाड़ी सर्विस कराते समय नही देना होगा हज़ार से ऊपर का बिल

अक्सर लोग जब कार की सर्विस कराने जाते हैं तो कार में कोई न कोई कमी बताकर सर्विस सेंटर वाले ज्यादा पैसा वसूल कर लेते हैं. लोग कार सर्विस करवाते समय इस बात का भी ध्यान रखते हैं कि लोकल मैकेनिक से ही सर्विस करा ली जाए या कंपनी के सर्विस सेंटर पर जाएं. कुछ लोग फ्री सर्विस खत्म होने पर लोकल मैकेनिक से सर्विस करवा लेते हैं. इसमें आपको सर्विस चार्ज भले ही कम देना पड़े लेकिन कई हिडन चार्ज या कुछ कमी बताकर आपसे ज्यादा पैसे ऐंठ लिए जाते हैं. हालांकि कुछ लोग सिर्फ कंपनी के सर्विस सेंटर पर ही जाते हैं. लेकिन यहां भी आपको चूना लगा दिया जाता है. अगर कार की सर्विस कराते वक्त आपसे भी फालतू पैसे वसूल कर लिए जाते हैं तो आज हम आपको कुछ टिप्स और ट्रिक्स बताएंगे जिससे आप सर्विसिंग के दौरान ध्यान में रख सकते हैं.   1-काला होने पर ऑयल चेंज करना पड़ेगा जब भी आप सर्विस सेंटर पर जाते हैं मैकेनिक ऑयल चेंज ...
दिल्ली में इस साल रामलीला नही होगा, रद्द किया गया सारा आयोजन, “सरकार का फ़ैसला बहुत देर से आया अब सम्भव नही”
Business, COVID19, Developments, Opinion, Reviews

दिल्ली में इस साल रामलीला नही होगा, रद्द किया गया सारा आयोजन, “सरकार का फ़ैसला बहुत देर से आया अब सम्भव नही”

केवल परम्परा बचाने के लिए 10 दिन तक लगातार करेंगे रामायण का पाठ.. कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ने और दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से देरी से मिले गाइडलाइंस की वजह से इस साल दिल्ली में होने वाली सभी प्रमुख रामलीलाओं का मंचन रद्द कर दी गया है। राजधानी दिल्ली में पहली बार ऐसा होगा जब एक साथ सभी रामलीला समितियों ने मंचन नहीं करने के निर्देश दिए हैं। कश्मीरी गेट की श्री नवयुवक रामलीला समिति के संयोजक अवतार सिंह का कहना है कि 40 वर्ष से चली आ रही इस परंपरा को बचाने के लिए पहली बार वे रामलीला के मंचन की जगह 10 दिन तक चलने वाला रामायण का पाठ करेंगे। जिसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं शारीरिक दूरी बनी रहे इसके लिए उचित व्यवस्था भी की गई है।   हंस क्लब रामलीला कमेटी उत्तम नगर के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार रामलीला का आयोजन रद्द के दिया गय...
भारत में कोरोना को धर्म से जोड़ के देखा जाएगा, चैनल वाले वैसे ही चलेंगे, सुप्रीम कोर्ट ने सुनने तक से मना किया
COVID19, National, Opinion

भारत में कोरोना को धर्म से जोड़ के देखा जाएगा, चैनल वाले वैसे ही चलेंगे, सुप्रीम कोर्ट ने सुनने तक से मना किया

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार और अन्य अथॉरिटीज को कोरोना मरीजों की पहचान धर्म के आधार पर नहीं करने के निर्देश देने की मांग करने वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी।       दिल्ली निवासी दो याचिकाकर्ताओं ने मार्च में निजामुद्दीन मरकज के सम्मेलन में शामिल हुए तब्लीगी जमात के लोगों का मुद्दा उठाते हुए यह याचिका दाखिल की थी। इसमें कहा था कि तब्लीगी जमात की घटना के आधार पर पूरे एक समुदाय पर आरोप लगाया गया।       शुक्रवार को यह याचिका जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर. सुभाष रेड्डी और जस्टिस एमआर शाह की पीठ के समक्ष सुनवाई पर लगी थी। पीठ ने मामले पर विचार करने से इन्कार करते हुए कहा कि याचिकाकर्ताओं ने ऐसी ही याचिका पहले हाई कोर्ट में दाखिल की थी जिसे हाई कोर्ट ने 20 अप्रैल को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि सुप्रीम कोर्ट पहले ही ऐसा ए...
बिजली उपभोक्ताओं के लिए सौग़ात, बदला गया नियम, पूरा नया नियम और क़ानून जान से 30 सितंबर तक आख़िरी तारीख़ हैं, सुझाव दे!
Business, Developments, Opinion, Reviews

बिजली उपभोक्ताओं के लिए सौग़ात, बदला गया नियम, पूरा नया नियम और क़ानून जान से 30 सितंबर तक आख़िरी तारीख़ हैं, सुझाव दे!

बिजली मंत्रलय ने उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए पहली बार नियमों का मसौदा तैयार किया है। बिजली मंत्रलय द्वारा बुधवार को जारी बयान के मुताबिक इसमें ग्राहकों को भरोसेमंद सेवा, बिजली कनेक्शन लेना आसान बनाने, वितरण कंपनियों की तरफ से सेवा में देरी के लिए मुआवजा तथा शिकायतों के समाधान के लिए 24 घंटे का कॉल सेंटर जैसे प्रावधान किए गए हैं। इस मसौदे पर संबंधित पक्षों से 30 सितंबर तक सुझाव मांगे गए हैं।   बिजली मंत्रलय ने कहा कि ग्राहकों के हित में ऐतिहासिक कदम उठाते हुए बिजली (उपभोक्ताओं के अधिकार) नियम, 2020 मसौदा जारी किया गया है। इस पहल का मकसद ग्राहकों को बेहतर सेवाएं और सुविधाएं उपलब्ध कराना है। उपभोक्ताओं की शिकायतों का सहज समाधान हो, इसके लिए मसौदा नियम में सब-डिवीजन से लेकर विभिन्न स्तरों पर शिकायत निवारण मंच के गठन का प्रस्ताव किया गया है।   बिजली वितरण कंपनियों ...