Saturday, January 22

दिल्ली नॉएडा आने जाने वालों के लिए 18 लेन बंद, DND पर लग रहा हैं झटका, 200 गड्डे से भरा सड़क

डीएनडी पर दिल्ली की ओर के हिस्से पर दक्षिण पूर्वी जिले की सनलाइट कालोनी थाना पुलिस गश्त करती है। गश्त के दौरान कई बार क्षतिग्रस्त सड़क से गुजरने के बावजूद पुलिस टीम ने कभी भी जिम्मेदार संस्था को इस ओर ध्यान नहीं दिलाया, जिसके चलते पिछले काफी समय से लोगों को टूटी सड़क से गुजरना पड़ रहा है। पुलिस उपायुक्त (यातायात) डा. रामगोपाल नाइक का कहना है कि नोएडा पुलिस से कई बार अनुरोध किया गया है कि वह सभी लेन सुचारू रूप से संचालित करे, ताकि दिल्ली से आने वालों को जाम से निजात मिल सके।

 

डीएनडी पर स्ट्रीट लाइट की किसी भी प्रकार की समस्या को लेकर जिम्मेदार एजेंसी नोएडा टोल ब्रिज कंपनी लिमिटेड को पत्र लिखकर सूचित किया जाता है। डीएनडी प्रबंधन की ओर से स्ट्रीट लाइट की मरम्मत का काम देखा जाता है। सड़क की मरम्मत का काम भी इसी एजेंसी की ओर से देखा जाता है।

 

 

सड़क को दुरुस्त करने का कम चल रहा है। यह हमारी लगातार चलने वाली प्रक्रिया है और हमेशा चलती रहती है। इस कार्य के दौरान यातायात बाधित न हो, इसके लिए सभी जरूरी साधन जुटाए जाते हैं। सुरक्षा के लिए गार्ड की तैनाती भी होती है, जिससे सुरक्षित तरीके से काम को पूरा किया जा सके।

 

 

दिल्ली से रोजाना नोएडा आने-जाने वालों की राह आसान करने के लिए बनाया गया दिल्ली नोएडा डायरेक्ट (डीएनडी) फ्लाई-वे पिछले कुछ समय से वाहन चालकों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है। जहां सड़क कई जगहों से टूटी हुई है और जगह-जगह बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं, वहीं इस पर नोएडा की ओर बने पुराने टोल बूथ के पास 32 लेन में से 18 को बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया गया है, जिसके कारण यहां बाटलनेक की स्थिति बन जाती है और वाहनों की रफ्तार धीमी होने से चालकों को लंबे जाम की स्थिति का सामना करना पड़ रहा है।

 

गड्ढों और बैरिकेड के कारण दिल्ली से नोएडा आने-जाने में वाहन चालकों की रफ्तार को ब्रेक लग रहा है, जो सुबह व शाम भारी यातायात के समय उनकी परेशानी को और बढ़ा देता है। डीएनडी पर कई स्थानों पर स्ट्रीट लाइट खराब होने के कारण भी हादसे की आशंका बनी रहती है। डीएनडी के रखरखाव और इस पर सुचारू यातायात के लिए जिम्मेदार दिल्ली व नोएडा की संबंधित एजेंसियां वाहन चालकों की परेशानी दूर करने की कोशिश करने के बजाय सिर्फ एक-दूसरे पर जिम्मेदारी डालकर पल्ला झाड़ती नजर आती हैं।

 

 

200 से अधिक गड्ढे

 

डीएनडी पर किलोकरी से लेकर टोल बूथ तक आने और जाने वाले दोनों मार्गों पर जगह-जगह गढ्ढे हो गए हैं। पूरे मार्ग पर छोटे-बड़े 200 से अधिक गढ्ढे हैं। क्षतिग्रस्त सड़क के कारण यातायात धीमी गति से चलता है। नोएडा से दिल्ली आने व जाने वाले हजारों वाहन चालकों को इस जाम से रोज जूझना पड़ता है। सड़क पर गड्ढों के कारण यातायात तो प्रभावित होता ही है, वाहनों के फिसलने और अनियंत्रित होने का खतरा भी बना रहता है।

Noida: Potholed roads menace for commuters

दिल्ली के क्षेत्र में डीएनडी पर खराब पड़ी हैं स्ट्रीट लाइटें

 

डीएनडी का जो हिस्सा दिल्ली के क्षेत्र में पड़ता है, वहां पूरे क्षेत्र में 80 प्रतिशत स्ट्रीट लाइटें खराब हैं। रात के समय वाहनों की हेडलाइट से ही मार्ग पर रोशनी होती है। इस दौरान कई बार सुबह के समय साइकिल चालक वाहनों की चपेट में भी आ चुके हैं। अंधेरा होने की वजह से डीएनडी से बारापुला और सराय काले खां जाने वाले लूप पर भी लोग भ्रमित हो जाते हैं।

 

मथुरा रोड और डीएनडी पर जाम की समस्या को दूर करने के लिए आश्रम फ्लाई-वे एक्सटेंशन का निर्माण किया जा रहा है। निर्माण कार्य के दौरान निर्माण स्थल पर चेतावनी बोर्ड व लाइट लगाने और अन्य जरूरी उपाय किए जाने के निर्देश हैं। इसके लिए सेफ्टी टीम काम करती है, लेकिन डीएनडी पर नोएडा से दिल्ली आने वाली लेन पर निर्माण स्थल के पास स्ट्रीट लाइट भी बंद पड़ी हैं और कोई चेतावनी बोर्ड या लाइट नहीं लगाई गई है। इसके कारण किसी भी समय हादसा होने की आशंका बनी रहती है। वहीं, डीएनडी से बारापुला पर चढ़ने वाले लूप पर भी कहीं कोई संकेतक नहीं लगाया गया है, जिसके कारण रात में वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। निर्माण स्थलों पर सुरक्षा के लिए पूरी सेफ्टी टीम की तैनाती की जाती है, जो निर्माण स्थल से कुछ दूरी पर लाइट, डायवर्जन चिह्न समेत सुरक्षा के कई अन्य उपाय करती है। जैसे-जैसे निर्माण कार्य आगे बढ़ता है। सुरक्षा उपकरण व चिह्न भी आगे बढ़ते जाते हैं। दिल्ली में लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) द्वारा आश्रम फ्लाई-वे एक्सटेंशन निर्माण कार्य कराया जा रहा है। पीडब्ल्यूडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि निर्माण स्थल पर संकेतक लगाने का काम सेफ्टी टीम लगातार करती रहती है। वर्तमान में काम बंद होने के कारण संभवत: चूक के चलते ये नहीं लग पाए हैं। सूचना मिली है तो इसे तुरंत दुरस्त कराया जाएगा। स्ट्रीट लाइट के रखरखाव का काम डीएनडी अथारिटी का है, उन्हें भी सूचना दे दी जाएगी।

 

निर्माण कार्य से गायब चेतावनी बोर्ड दे रहे हादसों को न्योता

डीएनडी पर नोएडा से दिल्ली आने वाली लेन पर आश्रम फ्लाई-वे एक्सटेंशन निर्माण स्थल के पास कोई चेतावनी बोर्ड नहीं लगाया गया है, इस कारण यहां हमेशा हादसे की आशंका बनी रहती है.

 

 

यमुना पुल पर एमसीडी के बैरियर से महामाया फ्लाईओवर तक लगता है यातायात जाम

डीएनडी पर स्थित यमुना पुल पर दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) का बैरियर लगाया जाता है, जिससे महामाया फ्लाईओवर तक यातायात जाम की समस्या हो जाती है। नोएडा की ओर से चार लेन का ट्रैफिक जाता है, लेकिन वहां पहुंचते ही यह दो लेन में तब्दील हो जाता है। ऐसे में वहां यातायात जाम की समस्या होने लगती है। नोएडा के यातायात निरीक्षक आशुतोष सिंह का कहना है कि इस बाबत एमसीडी और अन्य एजेंसियों को पत्र लिखा गया है। दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर मुकेश सुर्यान का कहना है कि वहां जाम की वजह दो लेन कम होना नहीं, बल्कि व्यावसायिक वाहनों का आरएफआइडी टैग से भुगतान न किया जाना है। चालक नकद भुगतान को यहां पर रुकते हैं।

 

DND to remain toll free, rules apex court | Cities News,The Indian Express

 

पुराने टोल प्लाजा की 18 Lane बंद.

छह किलोमीटर की लंबाई वाला डीएनडी फ्लाई-वे आठ लेन का है। दोनों तरफ चार-चार लेन हैं, लेकिन नोएडा की ओर पुराने टोल प्लाजा के पास सड़क 32 लेन की हो जाती है। इनमें से मौजूदा समय में 18 लेन बंद हैं, जबकि मात्र 14 खुली हुई हैं। खुली हुई लेन में से तीन-तीन लेन आने और जाने के लिए खुली हैं, जबकि दो-दो लेन को यू टर्न के लिए खोला गया है। एक-एक लेन दोपहिया वाहनों के लिए खोली गई है और नोएडा से दिल्ली को जाने वाले मार्ग पर दो टोल बूथ पर एमसीडी की टोल वसूली होती है। लेन बंद होने को लेकर जब जिम्मेदारों से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि भारी यातायात के कारण दुर्घटना की संभावना प्रबल होने के कारण दो साल पहले कई लेन बंद कर दी गई हैं।

Leave a Reply

error: Your Instant article will be Lost.