Friday, April 23

फेसबुक दिल्ली समेत पांच राज्यों के छोटे व्यापारियों को देगा 32 करोड़ रुपये, जानिए क्या है योजना

एक नजर पूरी खबर

  • सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक 3,000 से अधिक छोटे कारोबारियों को 43 लाख डॉलर (32 करोड़ रुपये) का अनुदान देगी।
  • इसका मकसद कोविड-19 संकट के बीच छोटे कारोबारियों के कारोबार को आगे बढ़ाने में मदद करना है।
  • इन शहरों के कारोबारियों को मिलेगी मदद
  • उन्होंने कहा कि अनुदान में नकद और विज्ञापन क्रेडिट दोनों शामिल हैं।

सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक 3,000 से अधिक छोटे कारोबारियों  को 43 लाख डॉलर (32 करोड़ रुपये) का अनुदान देगी। यह अनुदान दिल्ली और मुंबई समेत पांच शहरों के छोटे कारोबारियों को दिया जाएगा। इसका मकसद कोविड-19 संकट के बीच छोटे कारोबारियों के कारोबार को आगे बढ़ाने में मदद करना है।

फेसबुक ने 30 देशों में छोटी कंपनियों को कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव से निपटने में मदद के लिये मार्च में 10 करोड़ डॉलर के अनुदान की घोषणा की थी, यह उसी का हिस्सा है।

इन शहरों के कारोबारियों को मिलेगी मदद

फेसबुक इंडिया के प्रबंध निदेशक अैर उपाध्यक्ष अजित मोहन ने अपने ‘ब्लॉगपोस्ट’ में कहा, ‘मार्च में छोटे कारोबारियों के लिये घोषित 10 करोड़ डॉलर के अनुदान में से 43 लाख डॉलर दिल्ली, गुड़गांव, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरू में काम करने वाले 3,000 से अधिक छोटे कारोबारियों को देने की हम घोषणा करते हैं।

अनुदान में नकद और विज्ञापन क्रेडिट दोनो शामिल है।

उन्होंने कहा कि अनुदान में नकद और विज्ञापन क्रेडिट दोनों शामिल हैं। इसमें नकद राशि की हिस्सेदारी अधिक है। मोहन ने कहा कि अनुदान कार्यक्रम हर उद्योग और कारोबार से जुड़े छोटे कारोबारियों के लिये खुला है। कंपनियों को इसके लिये फेसबुक परिवार यानी ऐप के जरिये जुड़े होने की जरूरत नहीं है। साथ ही वे अनुदान राशि से अपनी इच्छानुसार काम करने को स्वतंत्र हैं।

उन्होंने कहा कि इस साल की शुरूआत में फेसबुक ने जियो प्लेटफार्म्स में 5.7 अरब डॉलर का निवेश किया। कंपनी ने इस भागीदारी के साथ भारत खासकर छोटे कारोबारियों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को प्रकट किया है।

मोहन ने कहा, ‘फेसबुक के लिये छोटे कारोबारी काफी महत्वपूर्ण हैं, वैश्विक स्तर पर हर महीने 18 करोड़ छोटी कंपनियां फेसबुक परिवार के ऐप का उपयोग कर संभावित ग्राहकों तक पहुंचते हैं और अपने कारोबार को आगे बढ़ा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि हमारे अनुदान एवं छोटे कारोबारियों को पटरी पर लाने के लिये जो हम अन्य उपाय कर रहे हैं, उससे उन्हें संकट से बाहर निकलने में मदद मिलेगी।’

Leave a Reply