Friday, April 16

किसान आंदोलन : आठ घंटे की बैठक रही बेनतीजा, किसान नए कानून को रद्द करने की मांग पर अड़े

किसी भी हालत में पीछे नहीं हटने वाले हैं

गुरुवार को तीन केंद्रीय मंत्रियों के साथ कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के नेतृत्व में प्रदर्शनकारी किसानों के प्रतिनिधिमंडल के साथ आठ घंटे बैठक हुई लेकिन किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुँचा जा सका। किसानों का कहना है कि वो किसी भी हालत में पीछे नहीं हटने वाले हैं और वो हर कीमत पर अपनी मांगे मनवा कर ही दम लेंगे।

आंदोलन का आज नौंवा दिन

बताते चलें कि आंदोलन का आज नौंवा दिन है। किसान नए कृषि कानून को रद्द करने के मांग पर अड़े हुए हैं। वहीँ गुरुग्राम जिले के मजदूर और कर्मचारी संगठन भी अब किसानों के समर्थन में धरना प्रदर्शन करने पर उतर आए हैं। उनकी मांग है कि कृषि कानून को रद्द कर दिया जाए। उन्होंने तो सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

ट्रैफिक का सामना कर रहें हैं निवासी

सरकार की तरफ से दोपहर के भोजन, चाय और पानी की पेशकश भी की गयी लेकिन नाराज़ किसानों ने उसे ठुकरा दिया। बता दें कि किसान आंदोलन की वजह से जगह जगह निवासियों को ट्रैफिक का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें परेशानी हो रही है। एक किसान ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार को नए किसान कानून की खामियां और उस बाबत हमारी चिंताए सुनने में सात महीने लग गए।

Leave a Reply