Thursday, August 5

बनना चाहती थीं IAS, बनीं वकील, 7 साल बिना पैसे लिए लड़ा निर्भया का केस

दोस्तों आज निर्भया को कौन नहीं जानता देश की इस बेटी के साथ कुछ समाज घिनौने हवस के अन्धे लड़कों ने बहुत बुरा काम किया था.दरिंदो को सजा मिलने को बहुत साल लग गए.इंसाफ के लिए निर्भया की माँ ने दिन रात एक कर दिए थे.

दोस्तों इस इंसाफ की लड़ाई सीमा कुशवाहा इस मामले से बिल्कुल शुरू से जुड़ी हुई हैं। निर्भया तो वो है सीमा कुशवाहा जिन्होंने अपनी पूरी ताकत लगा दी निर्भया को इंसाफ दिलाने में,

इनकी कड़ी मेहनत और निर्भया की माँ के दृढ संकल्प से निर्भया केस में जान आई और केस जितने में भारतीय लोगो ने अलग अलग मुहीम चला कर इंसाफ दिलाने में मदद की.

निर्भया को बाद इंडिया गेट,राष्ट्रपति भवन पर जो में अगर किसी ने निर्भया की माँ का साथ दिया है हुआ था सीमा कुशवाह उसमें शामिल थीं।

उसके बाद उन्होंने सोचा कि वकील हैं तो क्यों ना इस केस को वे ही लड़ें। इसके बाद उन्होंने निर्भया को न्याय दिलाने की ठान ली थी।

सीमा  अगर वह मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट, लिस्टिंग के लिए नहीं कोशिश नहीं करतीं तो मामला लटका ही रहता.

खबरों के मुताबिक,सीमा ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ही लॉ की पढ़ाई की है। निर्भया केस के दौरान में ट्रेनी थीं।

वह निर्भया ज्योति लीगल ट्रस्ट से भी जुड़ी बताई जाती हैं जो कांड आदि केस में कानूनी सलाह देने के लिए निर्भया के परिवार ने ही बनाया था।

एक टीवी इंटरव्यू में सीमा ने बताया था कि वह सिविल परीक्षा देकर आईएस बनना चाहती थीं।
सीमा बताती हैं कि वह खुद ऐसी जगह से आती हैं जहां लड़कियों को ज्यादा आजादी नहीं मिलती।

बावजूद इसके वह वकील बनीं। इसके बाद उन्हें कुछ भी नामुमकिन नहीं लगता। सीमा ने कहा,’मैं ग्रामीण इलाके से आती हूं।

जहां से मैं आई वहां लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाता,जानती हूं हक के लिए लड़ना पड़ता है।’
बातचीत में सीमा ने बताया कि वह फिलहाल रुकेंगी नहीं।

उन्होंने कहा कि अभी देश की और बेटियों को न्याय दिलवाना है। उन्होंने कहा,’पूर्णिया की लड़की को न्याय दिलवाना है। ऐसा ही केस है। 11 साल की बच्ची से रे’प हुआ। 6 लोगों ने रेप’ करके उसका गला काट दिया था।’

Leave a Reply