Monday, October 26

Metro-Gate से लौटाए जा रहे यात्री, आप भी न जाए रूमाल बांध के, MASK वाले को केवल Entry

मेट्रो गेट से लौटाए जा रहे हैं यात्री:

दिल्ली की लाइफ लाइन कही जाने वाली मेट्रो काफी वक्त बाद फिर से दौड़ने लगी है। कोरोनाकाल में सरकार ने सभी काे मास्क अनिवार्य किया हुआ है। नियम का उल्लंघन करने वालों के चालान किए जा रहे हैं। मेट्रो में भी यह नियम लागू है, लेकिन मेट्रो में लोकल को वोकल वाली कहानी नहीं चल रही है। जो यात्री रूमाल और गमछा मुंह पर बांधकर स्टेशन पहुंच रहे हैं, उनका प्रवेश मेट्राे में वर्जित कहकर गेट से ही उल्टे पैर वापस लौटाया जा रहा है।

Delhi Metro News: मेट्रो में इस तरह का मास्‍क पहने लोगों को नहीं मिल रही एंट्री, यहां जानें पूरी डिटेल

बृहस्पतिवार से रेड लाइन पर मेट्रो का परिचालन शुरू हुआ है। सुबह से ही लोग मेट्रो में सफर करने के लिए पहुंचने शुरू हो गए थे। रेड लाइन रूट पर मेट्रो शुरू होने से यात्रियों के चेहरे खिले हुए थे। मेट्रो का पहला दिन होने की वजह से यात्रियों को कई तरह की परेशानी झेलनी पड़ी।

 

सीलमपुर मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों के प्रवेश और निकासी के लिए एक ही गेट बनाया हुआ है। स्टेशन पर प्रवेश से पहले यात्रियों के शरीर के तापमान की जांच की गई, सामान व हाथों को सैनिटाइज करवाने के बाद ही प्रवेश दिया गया। हालांकि जो लोग मुंह पर रूमाल औ गमछा बांधकर पहुंचे, उनसे मेट्रो कर्मचारियों ने कहा कि उनके पास मास्क नहीं है, वह रूमाल और गमछे को मास्क नहीं मानते। इसलिए उन्हें प्रवेश नहीं दिया जा सकता।

केवल Mask पहने लोगों को ही मिल रहा हैं एंट्री:

मुंह पर मास्क लगा होने पर ही प्रवेश दिया जाएगा। कई लोगों की इस बात को लेकर कर्मचारियों से कहासुनी भी हो गई। लोगों ने कर्मचारियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उस बात का भी हवाला दिया जिसमें उन्होंने लोकल को वोकल की बात कही थी। साथ ही कहा कि मेट्रो ऐसा दोहरा रवैया क्यों अपना रहा है। अगर कोई शख्स गमछा और रूमाल बांधकर किसी स्थान पर जाता है तो पुलिस और प्रशासन की टीमें उसका चालान नहीं करती, क्योंकि उसने मुंह को ढका होता है। लेकिन मेट्रो ने अपना अलग ही नियम बना लिया है।

लोगों ने कहा भी नियम के अनुसार मुंह और नाक किसी कपड़े से ढकी होनी चाहिए, वो उनकी ढकी हुई है फिर क्यों प्रवेश नहीं दे रहे, लेकिन ऐसे लोगों की एक न सुनी गई। वहीं ऐसे लोग भी परेशान हुए जिनके पास स्मार्टकार्ड तो था, लेकिन उसे रिचार्ज करवाने के लिए उनके पास कोई एटीएम कार्ड या फोन पेमेंट एप नहीं था। नकदी से रिचार्ज नहीं किया गया।

दिल्ली मेट्रो के प्रवक्ता ने कहा कि मेट्रो में सिर्फ उन्हीं लोगों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा जिनके पास मास्क नहीं हैं। जिन लोगों ने मुंह को किसी मास्क, रूमाल या फिर गमछे से ढका होता है सभी को प्रवेश दिया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: