Wednesday, January 27

दिल्ली – NCR में आज कभी भी शुरू हो सकता हैं बारिश, अगर नही हुआ तो जीना होगा मुश्किल

पश्चिमी विक्षोभ के असर से रविवार को सीजन की पहली बारिश हो सकती है। बारिश हल्की होगी या तेज, इसे लेकर मौसम विभाग सटीक रूप से कुछ नहीं बता पा रहा है। हल्की बारिश हुई तो दीवाली के अगले दिन वायु प्रदूषण अधिक रह सकता है, तेज होने पर आसमान साफ हो जाएगा।  वहीं स्काईमेट वेदर के अनुसार, सोमवार से अधिकतम तापमान में और गिरावट देखने को मिल सकती है।

 

गौरतलब है कि दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में ही बना हुआ है। ज्यादातर इलाके रेड जोन में हैं। दीपावली पर दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने जमकर पटाखे फोड़े, जिससे वायु प्रदूषण में इजाफा हुआ है। दिल्ली के ज्यातादर इलाकों में वायु गुणवत्ता स्तर 500 के करीब पहुंच गया है।

 

शनिवार सुबह से वायु गुणवत्ता स्तर 400 के पार चला हुआ है। माना जा रहा है कि शनिवार की रात को यह 500 तक भी है। वहीं, मौसमी उतार-चढ़ाव के बीच अगले दो दिन दिल्ली-एनसीआर को पराली के धुएं से राहत मिलेगी। यह राहत हवा की दिशा बदलने से रहेगी। रविवार को बारिश होने पर यह साफ भी हो सकता है।

 

दिल्ली-यूपी और हरियाणा में बारिश के आसार

मौसम विभाग के मुताबिक, रविवार को पंजाब और हरियाणा पर अपर साइक्लोनिक सर्कुलेशन बन जाएगा। रविवार शाम पंजाब, हरियाणा, दिल्ली व पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बारिश होने की संभावना है।

 

रविवार को कम हो सकता है प्रदूषण का स्तर

स्काईमेट वेदर का कहना है कि शनिवार और रविवार को हवा की दिशा दक्षिण-पश्चिमी या दक्षिण-पूर्वी रहेगी। इसके साथ पराली का धुआं नहीं आएगा। ऐसे में पिछले सालों की तुलना में इस दीपावली के बाद प्रदूषण थोड़ा कम रहने के आसार हैं।

 

हवा की रफ्तार से मिलेगी राहत

वहीं रविवार को बारिश 12 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवा से प्रदूषण के स्तर में सुधार देखने को मिल सकता है। पिछले दिनों हवा की रफ्तार बढ़ने से लोगों को प्रदूषण से हल्की राहत मिली थी। इस बीच शुक्रवार को डिजिटल पत्रकार वार्ता के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि अगले सप्ताह दिल्ली-एनसीआर के वायुू प्रदूषण स्तर में कमी आएगी।

 

कम बारिश से बढ़ा वायु प्रदूषण

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इस बार मानसून के दौरान कम बारिश होने के चलते भी वायु प्रदूषण बढ़ा है। इस बार कम बारिश ने कई सालों का रिकॉर्ड टूटा है। इस बार मानसून समय से तो आया, लेकिन कम बारिश के  साथ अक्टूबर महीने में विदा हो गया।

Leave a Reply