Wednesday, August 17

Motivation

सूरत में खुला डॉक्टर नीतीश दुबे के Burnett Homeopathy का गुजरात ब्रांड शोरूम, बिहार के गाँव से शुरू किया सफ़र
Business, Motivation

सूरत में खुला डॉक्टर नीतीश दुबे के Burnett Homeopathy का गुजरात ब्रांड शोरूम, बिहार के गाँव से शुरू किया सफ़र

बिहार से ताल्लुक रखने वाले भारत के जाने-माने होम्योपैथी डॉक्टर नीतिश दुबे (Doctor nitish dubey) ने अपने होम्योपैथिक कंपनी BURNETT का सूरत में भी शाखा खोल दिया है. मध्य प्रदेश में इंदौर के बाद सूरत गुजरात में इकलौता ब्रांड आउटलेट है जहां पर कंपनी के सारे प्रोडक्ट एक छत के नीचे खरीदे जा सकेंगे.   क्यों महत्वपूर्ण है BURNETT Homeopathy ? इस कंपनी के पास लगभग 150 से ज्यादा होम्योपैथी के पेटेंट दवाइयां हैं जोकि कई रोगों पर काफी कारगर सिद्ध रही हैं.  कंपनी के पास हर प्रकार के दर्द की दवाओं से लेकर त्वचा रोग और अन्य कई सेक्शन के सिद्ध दवाइयां बाजार में काफी प्रचलित हुई हैं.   कहां से और कैसे हुई शुरुआत ? कंपनी के मालिक डॉक्टर नीतिश दुबे बिहार के मुंगेर जिले के कल्याणपुर गांव से ताल्लुक रखते हैं जहां पर इनके पिता जमालपुर रेल कारखाना में कार्य करते हुए होम्योपैथी की प्रैक्टिस करते थ...
एक यात्री की शिकायत पर निपट गए जंक्शन पर तैनात पांच टीटीई, तू तू मैं मैं के बाद सीधा सस्पेंड
Motivation

एक यात्री की शिकायत पर निपट गए जंक्शन पर तैनात पांच टीटीई, तू तू मैं मैं के बाद सीधा सस्पेंड

जंक्शन समेत अन्य प्रमुख स्टेशनों पर ट्रेनों के आते ही टिकट निरीक्षक अथवा टिकट संग्राहक प्लेटफार्म ही नहीं, बल्कि फुट ओवरब्रिज तक पर टिकट जांच करने पहुंच जाते हैं। इतना ही नहीं, जहां सीसीटीवी कैमरा नहीं होता है, वहीं जाकर टिकट जांच करते हैं। इस दौरान उनके द्वारा यात्रियों से जबरन वसूली भी की जाती है। ऐसा ही एक मामला बीते दिन मंडल रेल प्रबंधक प्रभात कुमार के संज्ञान में आया। यात्री की शिकायत पर जब जांच कराई गई, इसे सही पाया गया। इसके बाद पांच टीटीई को निलंबित कर दिया गया। यात्री ने टिकट निरीक्षकों पर लगाया मारपीट का आरोप मिली जानकारी के मुताबिक, मंगलवार की शाम को पटना जंक्शन पर यात्रियों की भीड़ लगी थी। फुट ओवर ब्रिज पर भीड़ होने के बावजूद पांच टीटीई टिकट जांच कर रहे थे। इस बीच, किसी यात्री से टिकट को लेकर तू-तू,मैं-मैं होने लगी। उक्त यात्री ने टिकट निरीक्षकों पर मारपीट करने का आरो...
दिल्ली मेट्रो के इस रूट पर कम रहेगा किराया, दिल्ली, गाजियाबाद, मेरठ आने जाने के लिए होगा और सहूलियत
Being in Delhi, Delhi NCR, Motivation, Travel

दिल्ली मेट्रो के इस रूट पर कम रहेगा किराया, दिल्ली, गाजियाबाद, मेरठ आने जाने के लिए होगा और सहूलियत

दिल्ली-मेरठ, दिल्ली-अलवर और दिल्ली-पानीपत तीनों ही कारिडोर पर रैपिड रेल 50 प्रतिशत तक हरित ऊर्जा से दौड़ेगी। इस से इस रूट पर टिकट भाड़ा भी मुक़ाबले कम रहेगा. पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए एनसीआर परिवहन निगम ने इस दिशा में प्रयास भी शुरू कर दिए हैं। गौरतलब है कि दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रूट पर देश के पहले रीजनल रेल ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) कारिडोर का निर्माण कार्य तीव्र गति से चल रहा है। इसका उद्देश्य राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में ग्रीन हाउस गैस (जीएचजी) के उत्सर्जन और प्रदूषण को कम करना है। इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन द्वारा संचालित आरआरटीएस एनसीआर में परिगमन के ग्रीन मोड के रूप में काम करेगा। आरआरटीएस के परिचालन में हरित अथवा नवीकरणीय ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाएगा। बता दें कि एनसीआरटीसी ने आरआरटीएस सिस्टम के लिए मुख्य रूप से अक्षय और सौर ऊर्जा से मिश्रित ऊर्जा प्राप्त करने क...
बिना मिट्टी के छत पर शानदार और वज़नदार सब्ज़ियाँ उगा रहा ये आदमी, कई साल से नही गया सब्ज़ी मंडी
Motivation

बिना मिट्टी के छत पर शानदार और वज़नदार सब्ज़ियाँ उगा रहा ये आदमी, कई साल से नही गया सब्ज़ी मंडी

छत पर बागवानी करते हुए जिस चीज की चिंता सबसे अधिक होती है वह है गमले का वजन। यही वजह है कि कई लोग टेरेस गार्डनिंग करने से बचते हैं।  उन्हें लगता है कि गमले, मिट्टी और फिर पौधों के वजन से कहीं उनकी छत को कोई नुकसान न हो जाये। इसके अलावा, पौधों को पानी देने के कारण कई बार छत में सीलन भी आने लगती है। लेकिन इन समस्याओं का हल यह नहीं है कि आप बागवानी ही न करें। जरुरी नहीं कि बागवानी करने के लिए आपको भारी गमले, मिट्टी का ही प्रयोग करना पड़े। बल्कि आज के हाई-टेक जमाने में तो आप मिट्टी के बिना भी पेड़-पौधे लगा सकते हैं। जैसा कि आंध्र प्रदेश के शेख अब्दुल मुनाफ कर रहे हैं। पिछले कई सालों से छत पर सब्जियां और सजावटी पेड़-पौधों की बागवानी कर रहे अब्दुल बताते हैं कि वह पौधे लगाने के लिए मिट्टी का प्रयोग नहीं करते हैं। पारम्परिक तरीकों से पौधे लगाने की बजाय अब्दुल ने ‘सॉइललेस’ गार्डनिंग की तकनीक ...
छत पर नही लगवा पाए मोबाइल टावर तो लगवाए सोलर पैनल. हर महीने मिलेगा पैसा, और बिजली बिल भी नही आएगा
Being in Delhi, Motivation, National

छत पर नही लगवा पाए मोबाइल टावर तो लगवाए सोलर पैनल. हर महीने मिलेगा पैसा, और बिजली बिल भी नही आएगा

घर की छत पर पेड़ पौधे लगाने से वातावरण खूबसूरत और खुशहाल लगता है, लेकिन यही घर की छत आपकी बिजली सम्बंधी जरूरत को भी पूरा कर सकती है। अगर आपका घर किसी खुली जगह पर है, जहाँ आसपास ऊंची इमारतें नहीं हैं तो यह बिजली बचाने का बहुत अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।   दरअसल घर की खुली छत पर सूरज की धूप काफी अच्छी पड़ती है, जिसमें सोलर पैनल (Solar Panel) लगाए जा सकते हैं। सोलर पैनल के जरिए बिजली की जरूरत भी पूरी हो जाती है, जबकि बिजली के बिल से छुटकारा मिल जाता है। इसके साथ ही सोलर पैनल से उत्पाद होने वाली बिजली के जरिए पैसे भी कमाए जा सकते हैं,   आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं-   ऑन ग्रिड सोलर पैनल (On Grid Solar Panel System) अगर आपके घर की छत पर रोजाना 7 से 8 घंटे की धूप रहती है, तो यह सोलर पैनल (Solar Panel) लगाने के लिए बहुत ही उत्तम जगह साबित हो सकती है।...
दिल्ली को मुग़लों ने नही बल्की, हिन्दू राजा अनंगपाल तोमर ने बसाया था, उन्ही ने बनाया था क़िला
Being in Delhi, Developments, Motivation

दिल्ली को मुग़लों ने नही बल्की, हिन्दू राजा अनंगपाल तोमर ने बसाया था, उन्ही ने बनाया था क़िला

मुगलों के इतिहासों के बीच दिल्ली को बसाने वाले प्रथम राजा अनंगपाल तोमर द्वितीय का इतिहास कहीं दबकर रह गया है। जबकि सच्चाई यह है कि दिल्ली के अस्तित्व की पहचान राजा अनंगपाल तोमर के बिना हमेशा अधूरी ही रहेगी। आज भी कुतुबमीनार के आस-पास के क्षेत्रों में राजा अनंगपाल तोमर की कहानियों व उनके राज्य की खुशहाली के बारे में टूटी-फूटी इमारतें व ऐतिहासिक दस्तावेजों के माध्यम से पता लगाया जा सकता है। वह ऐसे पहले राजा थे जिन्होंने महरौली के आस-पास के क्षेत्र में अपने नगर को बसाया ही नहीं बल्कि उसकी सुरक्षा के लिए मोटी-मोटी चारदीवारी भी बनवाई जिसके अवशेष अभी भी देखने को मिलते हैं और इन्हें लालकोट का किला कहा जाता है। आइए आज हम आपको बताते हैं उस दौरान बनाई गई राजा अनंगपाल की कुछ ऐतिहासिक इमारतें व कहानियां।   सदानीरा अनंगपाल झील अनंगपाल तोमर द्वितीय के इतिहास को बताने के लिए राष्ट्रीय ...
क़बूल में दिल्ली सिख गुरुद्वारा ने क़बूल में उठाया ज़िम्मेदारी, हिंदू और सिख लोगों को शरण मिलना हुआ शुरू
Motivation

क़बूल में दिल्ली सिख गुरुद्वारा ने क़बूल में उठाया ज़िम्मेदारी, हिंदू और सिख लोगों को शरण मिलना हुआ शुरू

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है। सभी धार्मिक समुदाय अपने-अपने समाज के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में लगे हुए हैं। इसी क्रम में दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) दिल्ली के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्वीट कर बताया है कि वह लगातार काबुल की गुरुद्वारा कमेटी के प्रबंधक एस गुरुनाम सिंह और गुरुद्वारा करते परवान साहिब में शरण ली हुई संगत के संपर्क में हैं। हालांकि, आज तालिबानी नेता गुरूद्वारा साहिब में आए और उन्होंने यहां रह रहे हिंदू और सिख लोगों से मुलाकात कर उन्हें उनकी सुरक्षा का आश्वासन दिया है। उल्लेखनीय है कि 15 अगस्त के दिन से अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर तालिबान आतंकवादियों के कब्जे के बाद भारत सहित सभी देश अपने नागरिकों को वहां से निकालने में लगे हुए हैं। वहीं, कुछ अफगानिस्तानी लोग भी वहां नहीं रहना चाहते। वे लगातार दूसर...
सब्सिडी, सस्ता लोन के साथ दिल्ली सरकार देने जा रही हैं 35% आरक्षण, कमाने का दिल्ली में शानदार मौक़ा
Being in Delhi, Business, Developments, Motivation, Reviews

सब्सिडी, सस्ता लोन के साथ दिल्ली सरकार देने जा रही हैं 35% आरक्षण, कमाने का दिल्ली में शानदार मौक़ा

राजधानी दिल्ली में आने वाले ई-आटो के परमिट के मामले में महिलाओं के लिए 35 फीसद का आरक्षण होगा। परिवहन विभाग की ओर से यह प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। बृहस्पतिवार को परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत की ई-आटो परमिट को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक है। उसमें इसे मंजूरी मिलने की संभावना है। मंजूरी मिलने पर परमिट के लिए आवेदन मंगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। दिल्ली में यह पहला मौका है जब आटो के परमिट महिलाओं को देने की तैयारी है।   दिल्ली सरकार ने ई-वाहन नीति के तहत वाहन पंजीकरण की रफ्तार को तेज करने के लिए दिल्ली में 4261 ई-आटो परमिट जारी करने का फैसला किया है। दिल्ली की सड़कों पर अभी अधिकतम एक लाख आटो परमिट जारी किए जा सकते है। इसमें 95 हजार आटो परमिट पहले से ही जारी किए जा चुके है। ये ह सभी आटो सीएनजी पर ही चलते हैं। अब सरकार ने बचे हुए 4261 परमिट ई-आटो के लिए आरक्षित कर दिए हैं। ...
IAS सृष्टि देशमुख इन 5 सवालों का जवाब देकर बनी थी UPSC टॉपर, मिला पहला स्थान
Motivation

IAS सृष्टि देशमुख इन 5 सवालों का जवाब देकर बनी थी UPSC टॉपर, मिला पहला स्थान

वैसे तो आप IAS सृष्टि देशमुख को जानते ही होंगे। उन्होंने भोपाल से केमिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर यूपीएससी की तैयारी करने में लग गई थी और यूपीएससी परीक्षा में आपने पांचवा स्थान हासिल किया। और महिलाओं में पहला स्थान प्राप्त किया। यूपीएससी लिखित परीक्षा में देशमुख ने 895 नंबर तथा इंटरव्यू में 173 मार्क्स प्राप्त किए थे। इस तरह से यूपीएससी में देशमुख ने 1068 मार्क्स प्राप्त किए चूकि प्रत्येक प्रतियोगी का सपना होता है पहले ही प्रयास में यूपीएससी पास की जाए और इंटरव्यू में किस तरीके के सवाल पूछे जाते हैं तो आइए जानते हैं।     सबसे पहले यह प्रश्न किया गया था आप केवल 23 साल की हैं और क्या आपको नहीं लगता सिविल सर्विसेज के लिए अभी आपकी उम्र बहुत कम है और अभी देश के लिए आपकी नॉलेज भी कम है। ऐसे में आपको एक्सपीरियंस की आवश्यकता है। दूसरा सवाल सीडी देशमुख के संबंध में पूछा गया थ...
दिल्ली यूनिवर्सिटी ने शुरू किया सर्टिफ़िकेट वाला कोर्स, मिलेगा वाइन, शराब फ़ैक्टरी में काम करने का मौक़ा
Being in Delhi, Business, Delhi NCR, Education, Motivation

दिल्ली यूनिवर्सिटी ने शुरू किया सर्टिफ़िकेट वाला कोर्स, मिलेगा वाइन, शराब फ़ैक्टरी में काम करने का मौक़ा

जानकारी के अनुसार माने तो दिल्ली यूनिवर्सिटी ने अब अपने कोर्स में कुछ नए सर्टिफिकेट कोर्स को शामिल करने निर्णय लिया है ।जिसमे फूड टेक्नोलॉजी से लेकर लीगल लिटरेसी और प्रोफिशिएंसी इन साइंस राइटिंग होंगे । क्यों करने जा रही यूनिवर्सिटी ऐसा ? बात करे इन नए कोर्सेज को शामिल करने की तो आजकल हर फील्ड में कंपटीशन बहुत बढ़ गया है । ऐसे में हर एक बचे के अंदर अपने कोर्स के अलावा कोई एक स्पेशियल्टी होनी चाहिए जिससे उससे अपनी कम मेरी आगे जाने का मौका मिले। इन कोर्स को शामिल करने का एक मात्र उद्देश्य छात्रों के अंदर के स्किल्स को डिवेलप करना है । जानकारी की माने तो इन सभी कोर्स के फी न्यूनतम रहेंगे । वेंकटेश्वर कॉलेज ने शुरू किया फूड साइंस एंड टेक्नोलोजी सर्टिफिकेट कोर्स। डी यू के वेंकटेश्वर कॉलेज के केमिस्ट्री विभाग में शुरू किया एक सर्टिफिकेट कोर्स।"फूड साइंस एंड टेक्नोलोजी" सर्टिफी कोर्स कुल ...